सेकंड हैंड कार का शोरूम कैसे खोलें?

. 1 min read
सेकंड हैंड कार का शोरूम कैसे खोलें?

लागत, मुनाफ़ा, सही जगह का चुनाव और अन्य जानकारियाँ

भारतीय अर्थव्यवस्था हर बीतते दिन के साथ बेहतर हो रही है. भारत में अर्थव्यवस्था में तेज़ी से हो रहे इस सुधार का श्रेय ऑटोमोबाइल उद्योग को जाता है. अगर आप कार खरीदने और बेचने का व्यवसाय शुरू करने की योजना बना रहे हैं, तो यह एक बहुत अच्छा विचार हो सकता है.

आज हम आपको अपने आर्टीकल में इस व्यापार से जुड़ी सारी जानकारी लेकर आये हैं, जो आपको भारत में इस्तेमाल की गई कारों को खरीदने और बेचने के बारे में कुछ ज्ञान इकट्ठा करने में मदद करेगी. इसके साथ ही ये भी साफ़ हो जायेगा कि भारत में सेकंड हैंड कार व्यवसाय कैसे करें.

नई कार खरीदना हर किसी के लिए संभव नहीं है और यही वजह है कि इस्तेमाल की गई कारों की मांग बहुत ज्यादा मात्रा में बढ़ती जा रही है. इस आधुनिक युग में इस्तेमाल की गई कार खरीदना और बेचना एक बहुत अच्छा व्यवसाय है.

यहां जो लोग नई कार खरीद सकते हैं वे अपने पुराने को बेचने में रुचि रखते हैं. वहीं कई अन्य लोग ऐसे हैं, जो उन्हें अच्छी दर में खरीदने के लिए तैयार हैं. इस व्यापार में कम समय की अवधि में अधिक लाभ कमाया जा सकता है और इस बात पर ज़रा सा भी संदेह नहीं है.

अगर आप भारत में एक  सेकंड हैंड कार व्यवसाय की खरीद और बिक्री का चयन करते हैं, तो ये आपके लिये फ़ायदेमंद सौदा साबित होगा.

कार मर्चेंट व्यवसाय कैसे शुरू करें ?

आमतौर पर, यह माना आता जा रहा है कि यदि आप एक कार व्यापारी व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं, तो आपको निवेश करने के लिए एक बड़ी पूंजी की आवश्यकता है. पर ये सच नहीं है, आपको व्यवसाय में कदम रखने के लिए बहुत बड़ी राशि का निवेश नहीं करने की आवश्यकता नहीं है.

ये व्यवसाय शुरू करने के लिए सही व्यवसाय योजना और बाजार का पर्याप्त ज्ञान होना ज़रूरी है. इसके साथ ही सत्यता और कौशल भी समान रूप से महत्वपूर्ण हैं. इसके अलावा इस व्यवसाय के बाज़ार में  कब्जा करने के लिए पूर्ण विश्वसनीयता की आवश्यकता है.

सेकेंड हैंड कार (Second Hand Car) व्यापार की पूरी और सही जानकारी के लिये आप ऑनलाइन डीलर्स से भी मदद ले सकते हैं. इसके साथ ही वहां से आप अपने देश में कारों को खरीदने और बेचने का अनुपात भी जान सकते हैं.

यहां सबसे महत्वपूर्ण बिज़नेस है, जो आपको बाजार में बहुत अच्छा स्टैंड दे सकता है. व्यापार शुरू करने से पहले अगर आपको परेशानियों से बचना है, तो सभी कानूनी प्रक्रियाओं को पूरा करें. इसके साथ ही प्रयुक्त कारों को खरीदने और बेचने का व्यवसाय शुरू करने के लिए कुछ बुनियादी सुझाव की भी आवश्यकता होगी.

डीलर लाइसेंस

व्यवसाय शुरू करने के लिए डीलर का लाइसेंस प्राप्त करना सबसे महत्वपूर्ण है. प्रत्येक राज्य लाइसेंस प्राप्त करने के लिए एक अलग आवश्यकता की मांग करता है.

कुछ राज्यों में डीलर लाइसेंस प्राप्त करने के लिये कोर्स करना पड़ता है, तो कुछ राज्यों में लाइसेंस के लिए लाइसेंस परीक्षा देनी पड़ती है. डीलर का लाइसेंस आपको प्रयुक्त कारों को खरीदने और बेचने के व्यवसाय को संचालित करने की कानूनी अनुमति देता है.

आज कई गैर-लाइसेंसधारी डीलर बाजार में उपलब्ध हैं. उनके साथ-साथ कुछ बिचौलिए भी इस व्यवसाय में काम कर रहे हैं, लेकिन बिचौलिओं से गाड़ी ख़रीदने में काफ़ी जोख़िम है. इसलिये अधिकतर लोग इनके साथ सौदा करने में डरते हैं.

अगर आप एक लाइसेंस प्राप्त डीलर हैं, तो आपको कारों को बेचने और खरीदने के लिए भरोसेमंद माना जा सकता है.

व्यवसाय का स्थान

लाइसेंस (License) प्राप्त करने के बाद अगली सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आपको व्यापार के लिए एक उपयुक्त स्थान ढूंढना है. आपको एक स्थान की आवश्यकता है, जहां आप बेचने के लिए ली गई कारों को सुरक्षित रख सकें.

यह आपकी दुकान पर अधिक से अधिक ग्राहकों को आकर्षित करने की रणनीति है. अगर आपके पास अपनी कारों को प्रदर्शित करने के लिए पर्याप्त जगह नहीं है, तो शुरू में आप अपना व्यवसाय ऑनलाइन शुरू कर सकते हैं.

आप इस्तेमाल की गई कारों की कुछ तस्वीरें ले सकते हैं और उन्हें इच्छुक ग्राहकों के लिए अपनी साइट पर पोस्ट कर सकते हैं. इससे आपको कारों को सुरक्षित रूप से स्टोर करने की आज़ादी मिलती है.

बाजार पर नजर रखें

यदि आप वास्तव में एक सफल कार डीलर बनना चाहते हैं, तो आपको हर समय बाजार पर नज़र बनाये रखने की आवश्यकता है. ग्राहक की मांग हमेशा बदलती रहती है और आपको उन्हें सफलतापूर्वक पूरा करने के लिए उपस्थित रहना पड़ता है.

कार खरीदते समय, आपको बाजार की मांग के साथ-साथ इसकी कार्यक्षमता को भी जांचना ज़रूरी होगा. इंटरनेट और पुस्तकों की सहायता से आप कारों के बाजार में नवीनतम प्रवृत्ति और मांगों के बारे में जान सकते हैं.

कार के सभी प्रकार के मॉडल और ब्रांड, जो अत्यधिक मांग में हैं, आपके खरीदारों को संतुष्ट करने के लिए आपके पास उपलब्ध होने चाहिए. अपने ग्राहक से मांग के बाद कार के विशेष ब्रांड की खोज करना आपके व्यवसाय के लिए अकसर जोखिमभरा साबित हो सकता है.

अपनी कैटलॉग बनायें

व्यवसाय लाइसेंस प्राप्त करना और व्यवसाय के लिए उपयुक्त स्थान की खोज करना और बाज़ार की मांगों का अध्ययन करना इस व्यवसाय की मूलभूत आवश्यकताएं हैं.

इसके साथ ही आपको खरीदारों को आकर्षित करने के लिए अपनी कार कैटलॉग बनाने की आवश्यकता है. अगर आप एक लाइसेंस प्राप्त डीलर हैं, तो आप आसानी से इस्तेमाल की गई कारों को थोक मूल्यों में खरीद सकते हैं.

आप बाजार की कीमत की तुलना में बहुत कम कीमत में कारों को प्राप्त करने के लिए ऑटोमोबाइल की निजी नीलामी में भाग ले सकते हैं. आप नीलामी के साथ-साथ इंटरनेट के माध्यम से बोली प्रक्रिया के बारे में उचित जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.

ये आपके लिए एक बहुत अच्छा व्यवसाय अवसर हो सकता है. इसके साथ ही आप नीलामी में अपनी कारों की बोली भी लगा सकते हैं. ये सुविधा केवल लाइसेंस प्राप्त डीलरों को दी जाती है. नीलामियों में भाग लेने और नीलामी से कारों की खरीद बहुत लाभदायक साबित हो सकती है, क्योंकि आप इन कारों को भारी लाभ प्राप्त करके फिर से बेच सकते हैं.

परफेक्ट मार्केटिंग प्लानिंग

अब जब आपका सारा सेट तैयार हो जाता है तो आप कार डीलर के रूप में बाजार में कदम रखने के लिये पूरी तरह तैयार हैं. अब आपको अपने व्यवसाय के विज्ञापन (Advertisment) पर ध्यान केंद्रित करना होगा.

विज्ञापन के अलग-अलग तरीके हैं और आप अपनी पसंद के अनुसार उन सभी या उनमें से कुछ का उपयोग कर सकते हैं. अगर आप व्यापार का निशुल्क विज्ञापन करना चाहते हैं, तो इसके लिये ऑनलाइन ज़रिया हो सकता है. ऑनलाइन माध्यम से आप एक बार में कई लोगों तक पहुंच सकते हैं.

इसके अलावा आप वितरित करने के लिए अपने व्यवसाय कार्ड और ब्रोशर बँटवा सकते हैं. इसके साथ ही आप समाचार पत्रों में भी विज्ञापन दे सकते हैं या आप बिल बोर्ड और होर्डिंग की भी मदद ले सकते हैं.

ये महत्वपूर्ण नहीं है कि आप अपने व्यवसाय का प्रचार करने के लिए कितना खर्च करते हैं, लेकिन ये महत्वपूर्ण है कि आप कार डीलरशिप बाजार में खुद को लोकप्रिय कैसे बनाते हैं. अपने खरीदारों को सर्वश्रेष्ठ सर्विस दें और वे आपका प्रचार दूसरों के बीच करेंगे.

आखिरकार अब ये कहा सकता है कि आप अपने व्यवसाय में पूर्ण रूप से ईमानदारी दिखायेंगे और ख़रीद-दरो की सभी मांगें पूरी करेंगे. कार डीलरशिप व्यवसाय से बहुत बड़ा लाभ कमा सकता हैं. आपको बस उन कारों की गुणवत्ता के बारे में सावधान रहना चाहिए जो आप अपने खरीदारों को प्रदान करते हैं. आपके खरीदार आपके व्यवसाय के लिए प्रचार और प्रसिद्धि का सबसे अच्छा स्रोत हैं.

इसलिये अपने कस्टमर्स को अच्छी सर्विस दें, ताकि वो ख़ुश रहें और दूसरों को ख़ुशी-ख़ुशी आपके कारोबार की जानकारी दें. इसके अलावा आपको कुछ और बातों का ध्यान रखना चाहिये.

स्मार्ट वर्क ज़रूरी है

आज कल हार्डवर्किंग नहीं, बल्कि स्मार्ट वर्किंग लोगों की ज़रूरत है. मेहनत करिये और इसके साथ-साथ ही स्मार्ट वर्क करिये. ग्राहकों को आकर्षित करने के लिये नये-नये ऑफ़र चलायें.

ये ऑफ़र्स आपकी सेल्स बढ़ायेंगे. इसके साथ ही आपको नये कस्टमर्स भी देंगे. इसके साथ भी आप किसी ख़ास मौके मॉल में जाकर भी कार का प्रचार कर सकते हैं. ये अच्छा मौका होता है, जब ग्राहकों को लुभावने ऑफ़र के बारे में बताते हैं.

ग्राहकों से अच्छे संबंध बनाये

किसी भी व्यापार में ग्राहकों के साथ संबंध बनाना बेहद आवश्यक है. अगर आप उनके साथ संबंध अच्छे नहीं रखेंगे, तो आपका व्यापार भी आगे नहीं बढ़ेगा. इसलिये बेहद ज़रूरी है कि सबके साथ अच्छा व्यवहार रखें.॰

काम के लिये वर्कर रखें

इस व्यापार के लिये आप फ़ुल टाइम या पार्ट टाइम वर्कर रख सकते हैं. वर्कर के साथ-साथ मेकेनिक भी रखें, ताकि अगर गाड़ी में कोई ख़राबी हो तो मौके पर मेकेनिक ठीक कर सके.

इस काम के लिये आप मेकेनिक की तनख़्वाह फ़िक्स भी कर सकते हैं. अगर उसे फ़िक्स सैलरी पर नहीं रखना चाहते हैं, तो उससे एक डील सेट करते हैं. इस डील में वो गाड़ी मौके पर आकर सही करके चला जायेगा.

कितना है मुनाफ़ा

निश्चित तौर पर इस व्यापार में बहुत मुनाफ़ा है. आज कल हर कोई कार ख़रीद रहा. इनमें से अधिकतर लोग सेकेंड हैंड गाड़ी ख़रीदना पसंद करते हैं.

यह भी पढ़े :

1) स्मॉल विजिटिंग कार्ड या बिज़नेस कार्ड व्यवसाय कैसे शुरू करें?
2) कैसे शुरू करें स्वयं का वेजिटेबल व्यवसाय?
3) मिट्टी से बने बर्तनों का व्यापार कैसे शुरू करें?
4) OK Credit क्या है? कैसे ये आपका बिजनेस बढ़ाने में सहायक है?