छोटे बिज़नेस व्यापारी कैसे करें अपने स्टाफ़ को मैनेज?

. 1 min read
छोटे बिज़नेस व्यापारी कैसे  करें अपने स्टाफ़ को मैनेज?

स्टाफ़ मैनज्मेंट टिप्स

किसी भी बिज़नेस में सबसे अहम् है उसमें काम करने वाले लोग. उनकी काबिलियत के चलते ही आपका बिज़नेस आगे बढ़ता है. अच्छे स्टाफ के मिलने से भी ज्यादा ज़रूरी है उनको संभाल कर रखना.ऐसे में आप अपने स्टाफ को कैसे मैनेज करते हैं, ये बहुत ज़रूरी हो जाता है.

साथ ही अगर आप छोटा बिज़नेस चला रहे हैं तो कम लागत में अच्छे लोग मिलना मुश्किल हो जाता है और लोगों को एक से ज्यादा जिम्मेदारियां निभानी ही पड़ती हैं. यहां पर सभी को अच्छे से मैनेज करना आपका काम है. यहां हम आपको कुछ टिप्स बताएंगे जो आपका ये काम आसान कर देंगे.

1. लोगों को काम पर रखते हुए दें ध्यान

स्टाफ को मैनेज करने से पहले जो काम आता है वो है उन्हें हायर करना. अगर आप काम पर उन लोगों को रखेंगे जो आपके बिज़नेस के लिए ही क्वालिफाइड हैं तो उन्हें मैनेज करने में भी आसानी होगी. साथ ही ध्यान रखे कि आप जिसे का पर रख रहें हैं वो आपकी कंपनी की प्रोफाइल और कल्चर से भी मेल खाता हो. मोटे तौर पर आपको तीन बातों का खास ध्यान रखने की जरुरत है:

  • क्या कैंडिडेट काम करने के लिए सही मायने में इच्छुक है?
  • क्या जॉब प्रोफाइल के हिसाब से सही तरह से क्वालिफाइड है?
  • पूरी तरह से रिफरेन्स चेक करने के बाद ही कैंडिडेट को जॉब पर रखें.

2. ट्रेनिंग पर दें खास ध्यान

अपने बिज़नेस को सही तरह से आगे बढ़ाने के लिए ज़रूरी है कि स्टाफ को ट्रेनिंग अच्छी तरह से दी जाए. ट्रेनिंग किसी भी काम का पहला स्टेप है.इसके लिए आप अलग-अलग ट्रेनिंग सेशन रख सकते हैं. यहां ध्यान में ये रखना है कि ट्रेनिंग का समय लोगों के लिए दिलचस्प रहे. यहां पर आप अपने बजट के हिसाब से कुछ चीज कर सकते हैं;

  • ट्रेनिंग को थोड़ा इंटरैक्टिव बनाने की कोशिश करें. लंच सेशन आदि पर विचार करें.
  • अपने पहले के स्टाफ की मदद से नए लोगों को ट्रेनिंग दिलवाएं ताकि वो अपने अनुभव के आधार पर उन्हें सही जानकारी दे सकें.

3. कम्युनिकेशन में कमी ना करें

कम्युनिकेशन किसी भी चीज में बेहद ज़रूरी है. इसलिए इसमें कमी ना होने दें. अपना पक्ष रखें और स्टाफ के  लोगों की बात और आइडियाज को भी बिलकुल भी नज़रंदाज़ ना करें. आप उन्हें सुनेंगे तभी वो अपना इनपुट कंपनी में दे सकते है.

किसी भी तरह  के डिसिशन मेकिंग प्रक्रिया में अपने स्टाफ को भी साथ रखें.

4. अपने स्टाफ को हमेशा सपोर्ट करें

हमेशा कंपनी में ऐसा माहौल रखने की कोशिश करें जो लोगों को काम करने के लिए प्रेरित करें. हमेशा ध्यान रखें कि अलग तरह के लोग अलग चीजों से खुश होते हैं, इसलिए इस बैट का थोड़ा ध्यान जरुर रखें. अगर आपके और आपके स्टाफ के बीच अच्छा संबंध है तो ये आपके बिज़नेस को आगे बढ़ाने में बहुत मदद करेगा.

5. जब भी हो रिवॉर्ड देने की कोशिश करें

रिवॉर्ड या इनाम देने का मतलब ये नहीं है कि हमेशा ही आपको उन्हें पैसा देना है. और भी बहुत से तरीके हैं जिसके जरिये आप अपने स्टाफ को रिवॉर्ड दे सकते हैं, जैसे कि

  • कभी कभी वर्किंग टाइम कम कर देना.
  • उनके काम की तारीफ करना.
  • लंच या आउटिंग प्लान करना.

6. वर्कफ्लो को अच्छे से मैनेज करना

हमेशा ये बात ध्यान रखे कि आपके बिज़नेस में स्टाफ के बीच वर्कफ्लो अच्छा रहे.ऐसा ना हो कि किसी एक मेम्बर पर काम का भोज बहुत ज्यादा है और दूसरे लोग खाली हैं. छोटे बिज़नेस में काम सभी को ज्यादा करना पड़ता है पर ज़रूरी है कि काम किसी के लिए संकट ना बन जाए.

7. लीडर बने बॉस नहीं

आप अगर अपने स्टाफ के लिए लीडर बन कर काम करेंगे तो वो भी आपके साथ चलकर बढ़कर काम करेंगे. आपका विज़न हमेशा एकदम क्लियर होना चाहिए. अगर आप ही अपने लक्ष्य को लेकर क्लियर नहीं रहेंगे तो आप कितना ही बेहतर स्टाफ रख लें आप अपने बिज़नेस को आगे नहीं ले जा सकते हैं.

और यकीन माने छोटे बिज़नेस में विज़न एक इंसान से दूसरे इंसान में बड़ी आसानी से पहुंचता है.

8. उनके लिए एक उदाहरण बने

कंपनी आपकी है पर ध्यान रहे जब आप काम करेंगे तभी दूसरे लोग काम करेंगे. आपको अपने स्टाफ के लिए एक उदाहरण की तरह रहना होगा. आप सही रहेंगे तभी आप दूसरों की गलती पर उन्हें टोक सकते हैं.

9. छोटी छोटी चीजों पर टोका टोकी ना करें

छोटे बिज़नेस में अक्सर देखा जाता है कि बॉस की पहुंच लगभग साइड सीधे सभी तक होती है. ऐसे में लोगों को थोड़ा सा स्पेस दें. हर चीज को माइक्रो मैनेज ना करें. पहले अच्छी तरह से चीजें देखें और उसके बाद ही रियेक्ट करें.

10. वीकली मीटिंग्स है ज़रूरी

बड़े बिज़नेस में भले ही आप मेनेजर के साथ सीधे बात कर उसके साथ काम करने वाले लोगों की जानकारी ले सकते हैं. पर छोटे बिज़नेस में कोशिश करें कि आप हर हफ्ते अपने स्टाफ से बातचीत कर रहे हैं. इस सेशन को जितना ज्यादा हो सके इंटरैक्टिव बनाएं और ये देखें की सभी स्टाफ एक ही पेज पर होने चाहिए.

11. स्टाफ को इज्ज़त देना है सबसे ज़रूरी

किसी भी बिज़नेस को शुरू करते हुए बहुत से ऐसे मौके आते हैं जब आप परेशान होते हैं. पर हमेशा ध्यान रखें कि आप अपने स्टाफ की इज्ज़त करें. इज्ज़त देंगे तभी लोग खुश हो कर और प्ररित रह कर काम कर सकते हैं.

हो सकता है बहुत सी बातों से आप किसी से सहमत ना हो पर पहले अच्छे से लोगों को सुनें उसके बाद उन्हें समझाएं.

12. पर्सनल तौर पर लोगों से जुड़ने की कोशिश करें

हालांकि की कंपनी या बिज़नेस में आपको रिश्ते प्रोफेशनल ही रखने की सलाह दी जाती है पर छोटी कंपनी में आप ना चाहते हुए भी सब लोगों से बातचीत करते हैं और पर्सनल तौर पर उनसे जुड़ जाते हैं.

इसलिए लोगों से थोड़ा सा पर्सनल टच देकर बात करें. उनके जन्मदिन या कंपनी से जुड़े किसी ख़ास दिन को जरुर याद  रखें. ऐसा करने से लोग काम के प्रति और उत्साहित होते हैं.

ऊपर बताई गई बहुत सी बात हो सकता है आपको साधारण लगे. और टिप्स पढ़ने में भले ही आपको कॉमन लगे या ये लगे कि तो सभी करते हैं पर यकीन माने ये छोटी-छोटी चीज ही है जो लोग भूल जाते हैं और आगे चल कर ये उनके सामने सबसे बड़ी रुकावट बन कर आता है.

लोग जल्दी जल्दी नौकरी छोड़ने लगते हैं और बिज़नेस आगे बढ़ ही नहीं पाता. हमेशा एक बात ध्यान रखें कि लोग जितने  लंबे समय तक आपसे जुड़े रहेंगे वो उतने ही लॉयल होते हैं और उतना ही जिम्मेदारियां उठाने के लिए तैयार रहते हैं.

याद रखें आपके साथ काम करने वाले लोग आपके लिए और आपके बिज़नेस के लिए सबसे अहम् है इसलिए उनकी कीमत करना बेहद ज़रूरी है.

OkCredit आपके लिए लाया है OkStaff! एक ऐसा ऐप जिसके ज़रिए आप मैनिज कर सकते हैं अपने स्टाफ़ की सैलरी (तनख़्वाह) और अटेंडन्स (हाज़िरी) बहुत ही आसानी से. OkStaff काफ़ी सारी लोकल भाषाओं में उपलब्ध है, जैसे की हिंदी, अंग्रेज़ी, तमिल, तेलुगु इत्यादि. यह ऐप 1 लाख से ज़्यादा लोगों द्वारा इस्तेमाल किया जाने वाला और पूर्णतः भारत में निर्मित ऐप है! अधिक जानकारी के लिए देखें और डाउनलोड करें इसे गूगल प्ले स्टोर से.

यह भी पढ़ें :

1) क्या जीएसटी सॉफ़्टवेअर की बिज़नेस में आवश्यकता होती है? क्या हैं इसके फ़ायदे/नुक़सान?
2) रियल एस्टेट कंसल्टिंग फर्म का बिज़नेस कैसे शुरू करें?
3) रीसाइक्लिंग (Recycling) का बिज़नेस कैसे शुरू करें?
4) मोबाइल शॉप कैसे खोलें? जानिए कुछ टिप्स और ट्रिक्स
5) बिज़नेस शुरू करने से पहले जान लें ये क़ानून